आदिवासी जमीनों के लूट रोकने पड़हा एवं पाहन हुए गोलबंद (Jharkhand news)

Jharkhand news


विजय दत्त पिंटू

Img 20220313 Wa0098

पाहन- पड़हा व्यवस्था बचाने और जमीन लूट के खिलाफ मुख्यमंत्री से मिलने का लिया निर्णय

रांची: 13 मार्च को भुसूर सरना स्थल में रांची जिला महापाहन शिबू तिग्गा के अगुवाई में पाहनों की बैठक हुई। इस बैठक में सामाजिक एवं धार्मिक जमीन के विषय में चर्चा की गई, इस अवसर पर शिबू तिग्गा ने कहा ग्रामीण व्यवस्था के अंतर्गत जो भी व्यक्ति पहनाई, मुंडाई, महतोवाई, पाहन भोरा भंडारी एवं कोटवारी इन पदों को संभालता है वहीं जमीन का जोतकार होता है, परंतु उस जमीन को वह पदधारी बेच नहीं सकता है और ना ही खानदान में बंटवारा ही कर सकता है।

सरकार तानाशाह, आवाम की आवाज़ को दबाना चाहती है : लम्बोदर महतो , आजसू पार्टी (AJSU PARTY) की मीटिंग

बावजूद इन प्रावधानों के आज सीएनटी एक्ट के तहत आदिवासी समाज का सामाजिक एवं धार्मिक जमीन का खरीद बिक्री अवैध होते हुए भी भुईहरी जमीन का धड़ल्ले से बिक्री हो रहा है। ऐसा लगता है कि इसके पीछे कोई साजिश के तहत इन जमीनों का खरीद बिक्री हो रहा है, अगर सरकार इस पर कठोरता से रोक नहीं लगाती है तो आदि काल से चली आ रही  पाहन एवं पड़हा व्यवस्था खत्म हो जाएगी।

अखिल भारतीय महिला सम्मेलन का होली मिलन समारोह संपन्न (Holi festival 2022)

पाहन संगठन सामाजिक एवं धार्मिक जमीन की अवैध तरीके से हो रही लूट के विरोध में जल्द ही राज्य के मुख्यमंत्री से मिलेंगे और रोक लगाने हेतु मांग करेंगे।

झारखण्ड हाईकोर्ट में पलामू में जारी अवैध खनन ( illegal mining )के खिलाफ जनहित याचिका दायर 50 से अधिक क्रशर वनक्षेत्र के

आज के इस बैठक में मुख्य रूप से झारखंड क्षेत्रीय पड़हा अध्यक्ष अजित उरांव,भोला पाहन, अमरुस होरो, राहुल मुंडा,  निर्मल मुंडा, धनेश्वर टोप्पो, अजय पाहन,दिनेश तिग्गा,  विशेश्वर पाहन, जुरा मुंडा, चंपा उरांव, बुधवा मुंडा, अजय टोप्पो और संजू मिंज उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share via
हिन्दी हिन्दी English English
Live Updates COVID-19 CASES