Akshaya Tritiya

Akshaya Tritiya :अक्षय का मतलब होता है जिसका कभी भी क्षय ना होना। आज के मुहूर्त पर जो होगा वो निरंतर रहेगा ।

Akshaya Tritiya  आज अक्षय तृतीया है। शास्त्रों में अक्षय तृतीया एक अबूझ मुहूर्त है यानी ऐसी तिथि जिसमें किसी तरह का शुभ कार्य या शुभ खरीदारी करने के लिए मुहूर्त नहीं देखा जाता है। बिना शुभ मुहूर्त के सभी तरह के शुभ कार्य की शुरुआत की जा सकती है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर वर्ष वैशाख महीने की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया का त्योहार मनाया जाता है।

बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने दी ईद (EID)की मुबारकबाद

JPSC Case 60 अधिकारियों को नौकरी में रखना संभव नहीं है ! कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार विभाग का मंथन जल्द कोर्ट में रिपोर्ट सौप सकती है ।।

अस्पताल में नवजात को चूहे ने कई जगह जख्म दिया (child was injured by mice )जानिए पूरा मामला

निशिकांत दुबे ने उठाया सवाल JPSC में आखिर दो दो मंत्रियो के बेटे कैसे पास हो गए JPSC को इसका जवाब देना चाहिए

खनन पट्टा मामला हेमंत सोरेन को चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस (Election Commission sent notice to Hemant Soren )10 दिन में मांगा जवाब, पूछा क्यों ना हो कार्यवाही

अक्षय तृतीया को आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है। अक्षय का मतलब होता है जिसका कभी भी क्षय या नाश न होना। मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन शुभ खरीदारी या शुभ कार्य करने पर हमेशा इसमें वृद्धि होती है। अक्षय तृतीया के दिन शुभ कार्य करने, दान, स्नान और जप आदि करने पर कभी भी शुभ फल की कमी नहीं होती है। वहीं खासतौर पर अक्षय तृतीया के दिन विशेष तौर पर सोने के आभूषण की खरीदारी की जाती है। मान्यता है इस दिन सोने और चांदी के आभूषण खरीदने से व्यक्ति के जीवन में माता लक्ष्मी का आशीर्वाद बना रहता है जिससे व्यक्ति का जीवन सुख,समृद्धि और वैभव का वास रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share via
हिन्दी हिन्दी English English
Live Updates COVID-19 CASES