Balu

Ranchi News:-अब घर बनान हुआ और भी मुश्किल , राज्य में आज से बालू खनन पर रोक, प्रति हाइवा 10 हजार तक बढ़े दाम

Ranchi News

प्रेरणा चौरसिया

Drishti  Now  Ranchi

झारखंड में शनिवार से बालू खनन पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की रोक लग जाएगी। 15 अक्टूबर तक किसी भी नदी से बालू का खनन नहीं होगा। इससे पहले ही माफिया ने बालू की कीमत बढ़ा दी है। रांची में प्रति हाइवा करीब 800 सीएफटी बालू की कीमत 36 हजार रुपए हो गई है। एक सप्ताह पहले यह 25 से 26 हजार रुपए में मिल रहा था। इससे घर बनाना महंगा हो गया है।

उधर, झारखंड स्टेट मिनरल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (जेएसएमडीसी) ने कहा है कि मानसून में खनन बंद रहने के बावजूद बालू की किल्लत नहीं होने दी जाएगी। कॉरपोरेशन के पास करीब 50 लाख सीएफटी बालू का स्टॉक है। इसके अलावा विभिन्न घाटों पर स्टॉकिस्ट के पास भी 50 लाख सीएफटी का स्टॉक है। कॉन्ट्रैक्टर, बिल्डर और आम लोगों को सहज और सस्ते दर पर ऑनलाइन बुकिंग के माध्यम से बालू उपलब्ध कराया जाएगा।

ऑनलाइन बुकिंग में 7.87 रु. प्रति सीएफटी की दर से बालू मिलेगा। यार्ड से ले जाने की व्यवस्था खरीदार को करनी होगी। पिछले साल भी जेएसएमडीसी ने बालू की ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा दी थी। लेकिन आम लोगों की बजाय माफिया और दलालों ने अलग-अलग आधार कार्ड और मोबाइल नंबर देकर बालू उठाया और ऊंची कीमत पर बेचा।

जेएसएमडीसी के नौ जिलों में 224 बालू घाट

जेएसएमडीसी के पास राज्य के नौ जिलों खूंटी, गढ़वा, गुमला, सरायकेला-खरसावां, हजारीबाग, कोडरमा, चतरा, दुमका व देवघर में स्टेज-2 के 224 बालू घाट हैं। शेष जिलों में बालू खनन के लिए वन एवं पर्यावरण विभाग द्वारा डिस्ट्रिक्ट सर्वे रिपोर्ट (डीएसआर) करा लिया गया है।

यह आंकड़ा संकलित होने के बाद बालू घाटों की संख्या में बढ़ोतरी होगी। वहीं स्टेज-1 के 445 घाटों से पंचायतों के माध्यम से बालू का उठाव होता है। इसका नियंत्रण डीसी के पास है। इन घाटों के बालू का उपयोग आम लोगों और ग्रामीण विकास से जुड़ी योजनाओं के लिए किया जाता है। डीसी निजी पार्टी द्वारा स्टॉक किए गए बालू की कीमत का भी निर्धारण करते हैं।

जेएसएमडीसी से ऐसे ऑनलाइन खरीद सकेंगे बालू

जेएसएमडीसी की वेबसाइट (jsmdc.in) पर बालू खरीद के लिए आईडी-पासवर्ड बनाना होगा। इसके लिए आधार और मोबाइल नंबर जरूरी होगा। इस साइट पर खरीदार को बालू घाट की जगह अब बालू यार्ड दिखेगा।

वहां उपलब्ध बालू की मात्रा भी दिखेगी। लोग जरूरत के हिसाब से यहां अपनी बुकिंग करा सकेंगे। इसके लिए 7.5 रुपए प्रति सीएफटी की दर निर्धारित है। इस पर पांच प्रतिशत जीएसटी लगेगा। इस तरह प्रति सीएफटी बालू की कीमत 7.87 रुपए होगा। एक अनुमान के तहत एक ट्रैक्टर (100 सीएफटी) बालू के लिए 787 रुपए देने होंगे। परिवहन खर्च खरीदार को उठाना होगा।

बालू पर सरकार की नजर, किल्लत नहीं होगी, ऑनलाइन बुक कराएं

बालू उपलब्ध कराने के लिए ऑनलाइन व्यवस्था की गई है। जेएसएमडीसी की साइट पर बालू बुक करा सकते हैँ। जल्दी ही विज्ञापन निकालकर पूरी सूचना दी जाएगी।

जेएसएमडीसी के पास 50 लाख सीएफटी बालू है, इतना ही स्टॉकिस्ट के पास है। किल्लत न हो, इस पर सरकार की नजर है। -अमित कुमार, निदेशक, खान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via