Raghuwar Das Alligation

सोनिया गांधी की अध्यक्षतावाले राष्ट्रीय सलाहकार परिषद के सदस्य की संस्था रेनबो होम की CBI जांच की मांग।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने एक गैर सरकारी संस्था में हुए दो नाबालिग बच्चों के साथ रेप के मामले में देश के गृहमत्री अमित शाह को पत्र लिखकर CBI जांच की मांग की है उन्होंने लिखा है  कि झारखंड में कार्यरत एक गैर सरकारी संस्था खुशी रेनबो होम में पिछले दिनों दो आदिवासी बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटना हुई। यह संस्था पूर्व अधिकारी हर्ष मंदर की संस्था सेंट्रल फॉर इक्विटी स्टडीज के द्वारा संचालित की जा रही है। संस्था के लोगों को इस घटना की जानकारी होने के बावजूद इसकी सूचना पुलिस को नहीं दी गयी,

झारखण्ड (JHARKHAND) के मंत्री हफीजुल हसन के विवादित बोल हमारा 20 प्रतिशत तो तुम्हारा 80 प्रतिशत घर बंद होगा

बल्कि इस घटना को छिपाने का प्रयास भी किया गया। झारखंड में श्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में आयी यूपीए सरकार में आदिवासी बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं में काफी वृद्धि हुई है। यह भी चिंता का सबब है।

झारखण्ड बिनोवा भावे यूनिवर्सिटी के प्रश्नपत्र में पूछा आतंकवाद (terrorism)पर निबंध लिखिए

हर्ष मंदर केंद्र की यूपीए सरकार में श्रीमती सोनिया गांधी की अध्यक्षतावाले राष्ट्रीय सलाहकार परिषद के सदस्य रह चुके हैं। उनका इतिहास काफी विवादपूर्ण रहा है। देश विरोधी गतिविधियों में शामिल संस्थानों के साथ उनका जुड़ाव जगजाहिर है। सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के मामले में भी उनकी सक्रिय भूमिका रही है, जिस मामले में दिल्ली पुलिस जांच कर रही है। इनकी संस्था उम्मीद अमन घर एवं खुशी रेनबो होम में पहले भी बाल यौन उत्पीड़न की शिकायतें आती रही हैं।

भीषण गर्मी (HEAT WAVE) में जनता त्रस्त और हेमंत सरकार के अधिकारी हैं मस्त : बाबूलाल मरांडी

झारखंड में अभी यूपीए सरकार है। प्रभावशाली व्यक्ति की संस्था होने के कारण इस मामले को दबाने का प्रयास किया गया। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के कठिन प्रयास से यहां मामला दर्ज हो पाया है। इस मामले में राज्य सरकार द्वारा जांच कराये जाने पर न्याय की उम्मीद काफी कम है। इसलिए उन्होंने गृह मंत्री से आग्रह किया है कि इस मामले की जांच सीबीआइ द्वारा करायी जाये। साथ ही इन संस्थाओं का निबंधन रद्द कर ब्लैक लिस्ट किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share via
हिन्दी हिन्दी English English
Live Updates COVID-19 CASES