Chabi

ED:-छवि रंजन ने माँगा 2 हफ्तों का समय , ईडी के जवाब का इंतजार , 21 अप्रैल को होना था हाजिर

ED

प्रेरणा चौरसिया

Drishti  Now  Ranchi

ईडी ने आईएएस अधिकारी छवि रंजन को आर्मी लैंड स्कैम मामले में पूछताछ के लिए समन भेजा है। उन्हें 21 अप्रैल यानी आज  ईडी के क्षेत्रीय कार्यालय हिनू  में तलब किया गया था. हालांकि, आपातकालीन कार्यालय में पहुंचने से एक दिन पहले, उन्होंने समय मांगा। आईएएस अधिकारी छवि रंजन की ओर से ईडी को दो सप्ताह पुराना आवेदन भेजा गया था। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार ई.डी. ने अभी तक उत्तर नहीं दिया।

छवि रंजन के आवास पे ईडी ने मारा था छापा 

सेना की जमीन धोखाधड़ी मामले में ईडी ने 13 अप्रैल को छापेमारी की थी। 3 राज्यों में 21 ठिकानों पर छापेमारी की गई। इस छापेमारी में आईएएस छवि रंजन भी शामिल थे . ईडी ने रांची और जमशेदपुर में उनके आवासों की भी तलाशी ली। ईडी ने जमीन धोखाधड़ी के मामलों में सात और लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके बाद गिरफ्तार सभी संदिग्धों से पूछताछ की जा रही  है। इस बीच छवि रंजन पर भी इस मामले में आरोप तय होने की उम्मीद है। ईडी ने उन्हें 21 अप्रैल को पेश होने को कहा है।

क्या है  लैंड स्कैम मामला 

दरअसल जिस मामले को लेकर ईडी ने छापेमारी की वह आर्मी लैंड स्कैम है। इस स्कैम का आरोपी प्रदीप बागची है। बागची ने ही सेना की जमीन की खरीद बिक्री के लिए फर्जी दस्तावेज तैयार किया था। प्रदीप बागची के पूर्वज प्रफुल्ल बागची ने वर्ष 1932 में सेल डीड संख्या 4369 के सहारे खतियानी रैयत प्रमोद दास गुप्ता से यह जमीन खरीदी थी। फर्जी तरीके से तैयार किये गये इस सेल डीड की रजिस्ट्री पश्चिम बंगाल में दिखायी गयी थी। जबकि 1932 में पश्चिम बंगाल राज्य का गठन ही नहीं हुआ था। पश्चिम बंगाल राज्य का गठन देश के विभाजन के बाद हुआ। इडी ने इस फर्जी सेल डीड को कब्जे में ले लिया है।
सात लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी
लैंड स्कैम मामले में बड़गाईं के सीआइ भानु प्रताप के अलावा जमीन कारोबारी अफसर अली, तलहा खान, फैयाज खान, सद्दाम हुसैन और इम्तियाज अहमद को गिरफ्तार कर चुकी है। ईडी की विशेष अदालत में इन्हें पहले चार दिन फिर बुधवार को पांच दिनों की रिमांड पर भेजा है। फिलहाल ईडी इनसे पूछताछ कर रही है।

हमारे व्हाट्सप ग्रुप से जुड़ने के लिए इस लिंक पे क्लिक करे :-

https://chat.whatsapp.com/KgR5pCpPDa65iYZy1qW9jo

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via