Rbi

VIRAL NEWS – बैंक धोखाधड़ी की वजह से पिछले सात वर्षों में हर रोज करीब 100 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ

VIRAL NEWS 

RBI का दावा:-
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक देश को बैंक धोखाधड़ी की वजह से पिछले सात वर्षों में हर रोज करीब 100 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। हालांकि, नुकसान की इस रकम में साल-दर-साल गिरावट आ रही है। RBI के मुताबिक, देश में बैंकिंग धोखाधड़ी के 83 फीसदी मामले केवल पांच राज्यों में हैं। इसमें 50 फीसदी के साथ महाराष्ट्र शीर्ष पर है, जबकि दिल्ली दूसरे स्थान पर है। उसके बाद सबसे ज्यादा बैंकिंग धोखाधड़ी तेलंगाना, गुजरात और तमिलनाडु जैसे राज्यों में है।

बीजेपी के सांसद निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey)के ख़िलाफ़ दर्ज प्राथमिकी को हाईकोर्ट ने निरस्त करने का दिया आदेश
आंकड़ों के मुताबिक, एक अप्रैल, 2015 से 31 दिसंबर, 2021 तक सभी राज्यों में करीब 2.5 लाख करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी हुई। इनमें इन पांच राज्यों की हिस्सेदारी दो लाख करोड़ रुपये से ज्यादा यानी 83% है। RBI ने बैंकिंग धोखाधड़ी को आठ वर्गों में बांटा है। हालांकि, वित्त मंत्रालय का कहना है कि ऐसी घटनाओं की रिपोर्टिंग और रोकथाम के लिए कदम उठाए गए हैं। इससे बैंकिंग धोखाधड़ी के मामलों में हर साल कमी आ रही है।
धोखाधड़ी में लगातार गिरावट
वित्त —- वर्ष रकम (रुपये में)
2015-16 —- 67,760 करोड़
2016-17—– 59,966 करोड़
2019-20—— 27,698 करोड़
2020-21—— 10,699 करोड़
चालू वित्तवर्ष के पहले 9 महीने में यह आंकड़ा 6,479 करोड़ रुपये रहा। हालांकि, कुछ वर्षों से साइबर धोखाधड़ी भी एक नए तरीके के रूप में उभरकर सामने आया है।

2021-2022 जाने से पहले ये जरुरी काम कर ले नहीं तो हो सकता है आपका बड़ा आर्थिक नुकसान (economic loss)!

धोखाधड़ी की ज्यादातर घटनाएं उधारी देने में ही होती हैं। ऐसे मामलों में या तो नियमों से ज्यादा कर्ज दिया जाता है या जमानत नहीं रखी जाती है। अमेरिका में हर दिन उधारी से जुड़े मामलों में असेसमेंट होता है, जो भारतीय बैंकों में नहीं किया जाता है। इसके लिए बैंकों को विशेष टीम गठित करनी चाहिए।

नन्हे खान के हत्यार गिरफ्तार , धनबाद पुलिस को बहुत बड़ी सफलता, Big success for Dhanbad police

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष वाई सुदर्शन का कहना है कि हाल में बैंकों में धोखाधड़ी की घटनाओं में कमी इसलिए आई है क्योंकि बैंक और सरकार मिलकर कदम उठा रहे हैं। बाहरी धोखाधड़ी से बचने के लिए बैंक काफी प्रयास करते हैं, पर उन्हें चाहिए कि वे अपने कर्मचारियों को इसके लिए जिम्मेदार बनाएं। खासकर ऐसे मामलों में, जहां ज्यादा उधारी दी जाती है।

NOTE – यह  एक वायरल खबर है जिसे व्हाट्सअप ग्रुप से लिया गया है 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share via
हिन्दी हिन्दी English English
Live Updates COVID-19 CASES